03 July, 2009

प्रकृति आहत है भाग -2
Align Centre
हवा के पँख नहीं होते
फिर भी उडती है जाती है
ब्राह्म्ण्ड के हर छोर तक
क्यों कि उसे देना है जीवन
देनी हैँ सब को साँसें
मगर इन्सान
हाथ पाँव होते हुये भी
किसी की साँसें
छीन लेना चाहता है
काट लेना चाहता है
उडने वालों के पर
और कभी क्भी
बैठा रहता है कर्महीन
बन कर पृथ्वी पर बोझ
निश्चित ही
प्रकृति आहत होगी
अपनी रचना के
इस व्यवहार से
क्या जीव निर्जीव से भी
गया गुज़रा हो गया है

12 comments:

ताऊ रामपुरिया said...

बहुत सटीक जिज्ञासा है. शुभकामनाएं.

रामराम.

भारतीय नागरिक - Indian Citizen said...

बहुत बढिया! क्या बात कही!

ओम आर्य said...

कभी कभी ऐसा लगता है कि जीव निर्जीव से बत्तर हो गया है पर क्या करे ....यह समस्या है बन गई है आज की तारिख मे .................व्यक्तिगत स्तर से ही सुधार लाया जा सकता है ..................

रंजना [रंजू भाटिया] said...

सही और सुन्दर बात कही आपने इस रचना के माध्यम से

sandhyagupta said...

Sochne ko vivash kar diya aapne.

P.N. Subramanian said...

बहुत ही सुन्दर रचना. किसी ने ठीक कहा. मंथन हो जाता है. आभार.

प्रवीण शुक्ल (प्रार्थी) said...

सादर प्रणाम , आंतरिक विश्लेषण करने के लिए विवश करती एक अद्भुद रचना हम कहाँ से कहाँ जा रहे है
सादर
प्रवीण पथिक
9971969084

अनिल कान्त : said...

sahi likha hai aapne

राज भाटिय़ा said...

अति सुंदर बात कही आप ने इस कविता के जरिये.
धन्यवाद

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

अच्छा प्रश्न उठाया है आपने।
बहुत सुन्दर रचना है,
बधाई।

JHAROKHA said...

निश्चित ही
प्रकृति आहत होगी
अपनी रचना के
इस व्यवहार से
क्या जीव निर्जीव से भी
गया गुज़रा हो गया है

आदरणीय निर्मला जी ,
अपने बिलकुल सच लिखा है ...आज हम प्रकृति के ऊपर जो अत्याचार कर रहे हैं ..उसे तो रोकना ही होगा ...
पूनम

विनोद कुमार पांडेय said...

आपकी रचनाएँ भाव से परिपूर्ण होती हैं,
पूरे डूब जाते हैं,बधाई

पोस्ट ई मेल से प्रप्त करें}

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner