18 March, 2011

महमान -- हास्य कविता

होली पर एक हास्य कविता

महमान
होली पर जब कभी
महमान घर आते
 पत्नी खुश होती
 पति मुँह फुलाते
पत्नी को उनका रुख
 कभी न भाया
 एक दिन उसने
 पति को समझाया
 एजी! अगर आप यूँ
 मुँह फुलायोगे तो
 मेरी होली कैसे मन पायेगी?
 मेरी सहेलियों मे
मेरी इज्जत क्या रह जायेगी?
होली पर महमान
 होते हैं भगवान
उन्हें देख मुँह नही फुलाते हैं
 बल्कि हंस कर गले लगाते हैं
ये सुन पति मुस्कुराये
" रानी तेरा हुक्म बजाउँगा"
जब आयेगी तेरी सहेली
उसको गले लगाऊँगा
पर जब आयेगी मेरी माँ
 तुझ से भी यही करवाऊँगा
 होली की आप सब को हार्दिक शुभकामनायें।

102 comments:

संजय कुमार चौरसिया said...

sundar kavita

होली की बहुत बहुत शुभकामनाएं

भारतीय नागरिक - Indian Citizen said...

हा हा पतिदेव बहुत चालू हैं..

संजय @ मो सम कौन ? said...

पतिदेव को सिलसिला वाले गाने की पंक्तियां याद आ रही होंगी - ’सोने की थाली में..)

padm singh said...

हा हा हा ... होली तक इसे क़ानून बना दिया जाना चाहिए... :)

Learn By Watch said...

हा हा हा

एक चुटकुला याद आया आज ही पढ़ा है

घर में मेहमान आने पर माँ ने खाना बनाया और सभी साथ में खाने बैठे

बेटा खाने ही वाला था तभी माँ बोली : बेटा, खाने से पहले भगवान की प्रार्थना करते हैं

बेटा: कौन सी प्रार्थना

माँ: वही जो मैं अधिकतर करती हूँ

बेटा: अच्छा, "हे भगवान! ये मुस्टंडे फिर से आ गए कब तक मैं इस सब का खाना बनाती रहूंगी"

:)

सुरेन्द्र "मुल्हिद" said...

boht wadiyaa ji!!

डॉ॰ मोनिका शर्मा said...

बहुत बढ़िया.... होली की हार्दिक शुभकामनायें

प्रवीण पाण्डेय said...

वाह, बहुत बढ़िया।

रश्मि प्रभा... said...

hahaha bahut hi mazedaar .... holi ki shubhkamnayen

प्रतुल वशिष्ठ said...

.

आपकी नमकीन कविता बेहद अच्छी लगी.
आप भी एक गुजिया हमारी भी खाते जाएँ :
"भोले-भाले लिये रूप को
आई पिया लेकर टोली.
लज्जा से हो लाल स्वयं
कहती - मुझसे खेलो होली."
.
.
.
जो लाल खुद-ब-खुद हो जाये, उससे कैसे खेला जाये?
जो स्वयं कपिला कहलाये, उसपर कौन-सा रंग लगाएँ?

.

sandhya said...

बहुत मजेदार व्यंग से भरी रचना.. होली की ढेरों शुभकामनायें...

Shah Nawaz said...

हा हा हा बढ़िया जवाब... बढ़िया रचना...

Dr. Chandra Kumar Jain said...

बढ़िया है...
हास परिहास...होली के आस पास !
==============================
डॉ.चन्द्रकुमार जैन

Swarajya karun said...

दिलचस्प कविता. होली की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं .

ज्ञानचंद मर्मज्ञ said...

वाह,अच्छी रही !
होली की रंग भरी ढेरों शुभकामनाएँ !

सुज्ञ said...

उल्हास भर देनेवाला हास्य है!!

और मम्मी को गले लगानें में तो सीख छुपी है।

रंगो के पर्व पर शुभकामनाएँ

पी.सी.गोदियाल "परचेत" said...

हा-हा-हा-हा ....इर्ष्या की हद देखो :)

अन्तर सोहिल said...

हास्य के साथ संदेश भी
बहुत पसन्द आयी जी यह कविता

प्रणाम

ZEAL said...

पति ने अच्छा bargain किया है । दोनों हाथ में लड्डू । सहेलियों को गले भी लगाएगा और माँ के लिए भी स्थिति सुनिश्चित कर ली ...मजेदार कविता है।

अरूण साथी said...

nahle pe dahla

Priyankaabhilaashi said...

बहुत सुंदर..!!!

हार्दिक शुभकामनाएँ..!!

Babli said...

बहुत सुन्दर कविता!
आपको एवं आपके परिवार को होली की हार्दिक शुभकामनायें!

Rakesh Kumar said...

अरे वाह ! क्या कहने ? दोनों हाथों में लड्डू .पाँचों अंगुली घी में और सिर कढाई में .
होली की आपको और सभी ब्लोगर जन को हार्दिक
शुभ कामनाएँ .

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

" रानी तेरा हुक्म बजाउँगा"
जब आयेगी तेरी सहेली
उसको गले लगाऊँगा..

काफी रंग में भंग मिल रही है ....:) :)

होली की शुभकामनायें

सदा said...

बहुत खूब ...होली की शुभकामनायें ।

amit-nivedita said...

mai to apni patni ki sabhi saheliyon ko apna sahela bhi mantaa hun...

वन्दना said...

हाहाहा………मज़ा आ गया…………होली की हार्दिक शुभकामनायें।

Kunwar Kusumesh said...

पति देव के मज़े हो गए................हा हा हा.........

संजय भास्कर said...

आदरणीय निर्मला कपिला जी
नमस्कार !
बहुत मजेदार बढ़िया जवाब... बढ़िया रचना..

संजय भास्कर said...

बहुत पसन्द आयी कविता

संजय भास्कर said...

रंगों का त्यौहार बहुत मुबारक हो आपको और आपके परिवार को|
कई दिनों व्यस्त होने के कारण  ब्लॉग पर नहीं आ सका
बहुत देर से पहुँच पाया ....माफी चाहता हूँ..

सुशील बाकलीवाल said...

वाह... आनन्द आ गया ।

होली की हार्दिक शुभकामनाएँ...

Kailash C Sharma said...

बहुत सुन्दर..होली की हार्दिक शुभकामनायें!

shikha varshney said...

हा हा हा सही है :)
होली मुबारक जी !

अजय कुमार said...

achchha hai , holi mubaarak

Mukesh Kumar Sinha said...

happy holi didi........:)

ha ha ha ha

Manpreet Kaur said...

हांजी दूम दाम से मन्ये गे होली !होली की ढेरों शुभकामनाएं! हवे अ गुड डे ! मेरे ब्लॉग पर आये !
Music Bol
Lyrics Mantra
Shayari Dil Se
Latest News About Tech

पं.डी.के.शर्मा"वत्स" said...

:)) बहुत बढिया....

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

बहुत सुन्दर रचना!
--
उनको रंग लगाएँ, जो भी खुश होकर लगवाएँ,
बूढ़ों और असहायों को हम, बिल्कुल नहीं सताएँ,
करें मर्यादित हँसी-ठिठोली।
आओ हम खेलें हिल-मिल होली।।
--
होलिकोत्सव की शुभकामनाएँ!

डॉ टी एस दराल said...

हा हा हा ! होली पर सभी मर्दों की यही इच्छा होती है ।

Er. सत्यम शिवम said...

आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार (19.03.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.blogspot.com/
चर्चाकार:Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)

Patali-The-Village said...

बहुत बढ़िया ब्यंग| होली की हार्दिक शुभकामनायें|

: केवल राम : said...

सशक्त व्यंग्य ...आनंद आ गया पढ़कर ....पति और पत्नी का संवाद बहुत कुछ कह गया ...आपको सपरिवार होली की हार्दिक शुभकामनायें

इस्मत ज़ैदी said...

आप को और आप के परिवार को होली की बधाइयां और शुभकामनाएं

शेखचिल्ली का बाप said...

खामोशी भी और तकल्लुम भी ,
हर अदा एक क़यामत है जी
@ आप कितना अच्छा लिखती हैं ?
मुबारक हो आपको रंग बिरंग की खुशियाँ .
हा हा हा sss हा हा हा हा ssss

http://shekhchillykabaap.blogspot.com/2011/03/blog-post.html

Bhushan said...

बढ़िया कविता और होली के रंग के साथ. कपिला जी आपको बहुत बधाई.

Vijai Mathur said...

आप सब को भी होली की हार्दिक मंगलकामनाएं.

क्रिएटिव मंच-Creative Manch said...

होली में रंगी बहुत बढ़िया रचना .
होली की हार्दिक शुभकामनायें|

चैतन्य शर्मा said...

होली की शुभकामनायें...... हैप्पी होली

राज भाटिय़ा said...

होली की बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!

kshama said...

Ha,ha!
Holee kee dheron shubhkamnayen!

abhi said...

हा हा हा...हंसी रुक नहीं पा रही मेरी...अंतिम के चार लाईन पे :) :)

"रानी तेरा हुक्म बजाऊंगा
जब आयेगी तेरी सहेली
उसको गले लगाऊंगा
पर जब आयेगी मेरी माँ
तुझ से भी यही करवाऊंगा


हा हा हा :) :) मस्त है ये

Rahul Singh said...

अब तक कविता थी, इसके आगे कहानी बन गई होगी.

मनोज कुमार said...

वाह-वाह!
वाह-वाह!!
मन खुश हो गया।
उन्हें सुना कर आया हूं।
(मतलब अपना मुंह फुला कल लाया हूं)

हैप्पी होली दीदी!!

आशीष मिश्रा said...

आप को भी होली की बहोत ढेर सारी शुभकामनाएँ

प्रतिभा सक्सेना said...

बहुत मज़ेदार ,
पति लोग तो हमेशा फ़ायदे में ही रहते हैं !
होली की शुभ-कामनाएं स्वीकार करें !

खुशदीप सहगल said...

तन रंग लो जी आज मन रंग लो,
तन रंग लो,
खेलो,खेलो उमंग भरे रंग,
प्यार के ले लो...

खुशियों के रंगों से आपकी होली सराबोर रहे...

जय हिंद...

सतीश सक्सेना said...

यह तो आपने आज होली पर छक्का मारा है सीधा बाउंड्री पार :-)

आनंद आ गया , शुभकामनायें स्वीकार करें और मीठा आशीर्वाद भी दें अभी !

जी.के. अवधिया said...

भजन करो भोजन करो गाओ ताल तरंग।
मन मेरो लागे रहे सब ब्लोगर के संग॥


होलिका (अपने अंतर के कलुष) के दहन और वसन्तोसव पर्व की शुभकामनाएँ!

यशवन्त माथुर said...

आप को सपरिवार होली की हार्दिक शुभ कामनाएं.

सादर

रवीन्द्र प्रभात said...

आपको सपरिवार होली की हार्दिक शुभकामनायें।

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ said...

होली के पर्व की अशेष मंगल कामनाएं। ईश्वर से यही कामना है कि यह पर्व आपके मन के अवगुणों को जला कर भस्म कर जाए और आपके जीवन में खुशियों के रंग बिखराए।
आइए इस शुभ अवसर पर वृक्षों को असामयिक मौत से बचाएं तथा अनजाने में होने वाले पाप से लोगों को अवगत कराएं।

ताऊ रामपुरिया said...

बहुत सटीक.

होली पर्व की घणी रामराम.

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ said...

होली के पर्व की अशेष मंगल कामनाएं। ईश्वर से यही कामना है कि यह पर्व आपके मन के अवगुणों को जला कर भस्म कर जाए और आपके जीवन में खुशियों के रंग बिखराए।
आइए इस शुभ अवसर पर वृक्षों को असामयिक मौत से बचाएं तथा अनजाने में होने वाले पाप से लोगों को अवगत कराएं।

दर्शन कौर धनोए said...

होली की आपको बहुत बहुत शुभकामनाएं....

ज्योति सिंह said...

haste haste kat jaaye raste jindagi yoon hi chalti rahe ,ye nok jhok bhi ek rang hai .jeene ka apna dhang hai .ati sundar ,dhero badhai le is rang parv par .

उपेन्द्र ' उपेन ' said...

होली पर बहुत ही सुंदर व्यंगात्मक कविता ...होली की हार्दिक शुभकामनायें

कविता रावत said...

बहुत सुन्दर होली की रंगारंग प्रस्तुति
आपको सपरिवार होली की हार्दिक शुभकामनाएं

BrijmohanShrivastava said...

होली का त्यौहार आपके सुखद जीवन और सुखी परिवार में और भी रंग विरंगी खुशयां बिखेरे यही कामना

दिगम्बर नासवा said...

वाह ... क्या बात है हँसी नही रुक रही निर्मला जी ...
आपको और समस्त परिवार को होली की हार्दिक बधाई और मंगल कामनाएँ ....

शिखा कौशिक said...

ha ha ha bahut majedar .
आप को रंगों के पर्व होली की बहुत बहुत शुभकामनायें ..
रंगों का ये उत्सव आप के जीवन में अपार खुशियों के रंग भर दे..

Dorothy said...

नेह और अपनेपन के
इंद्रधनुषी रंगों से सजी होली
उमंग और उल्लास का गुलाल
हमारे जीवनों मे उंडेल दे.

आप को सपरिवार होली की ढेरों शुभकामनाएं.
सादर
डोरोथी.

Indranil Bhattacharjee ........."सैल" said...

बढ़िया हास्य कविता !
आपको और आपके परिवार को होली की शुभकामनायें !

डॉ. मनोज मिश्र said...

.होली पर्व पर हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं ...

वन्दना अवस्थी दुबे said...

रंग-पर्व पर हार्दिक शुभकामनायें

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन said...

समझदार दंपत्ति हैं

देवेन्द्र पाण्डेय said...

हा..हा..हा..

Dwarka Baheti 'Dwarkesh' said...

होली के त्यौहार के अनुकूल हास्य-कविता.
होली मुबारक .

सुरेन्द्र सिंह " झंझट " said...

बहुत मजेदार हास्य कविता ...होली का सारा फायदा पति देव ही उठाना चाह रहे हैं !



होली की हार्दिक शुभकामनायें ..A

सुमन'मीत' said...

MAZEDAR...BAHUT KHOOB...HAPPY HOLI...

Sunil Kumar said...

सावधान कुछ सोचना पड़ेगा

Sadhana Vaid said...

बहुत ही बढ़िया ! पढ़ कर आनंद आ गया ! होली की अशेष शुभकामनायें !

चला बिहारी ब्लॉगर बनने said...

निम्मो दी!
होली गुज़रे देर हो गई, पर पैर छूने के लिए देर नहीं हुई..
जैसा कि मैं हमेशा कहता हूँ कि आपकी हर पोस्ट अनुभव का खज़ाना है. और यह तो खैर हास्य फुहार सी रचना थी.. मुस्कराहट बिखेर गई यह कविता...

neelima sukhija arora said...

वाह, बहुत बढ़िया।

मुकेश कुमार तिवारी said...

निर्मला जी,

बहुत अच्छी फुलझड़ी रही यह कविता होली के मूड में रची बसी।

सादर,

मुकेश कुमार तिवारी

JHAROKHA said...

aadarniy mam
haasy se paripurn rachna padhkar bahut hi aanand aaya .
shayad pati dev bhi isi mouke ki talaash me the.ab topatni ji pad gai sankat me. koi baat nahi .vo achhe se janti hain ki memaan bhagvaan hota hai so saasu maa ko hans kar gale lagayengi.
bahut hi majedaar lagiaapki yah post
hardik dhanyvaad
poonam

Manav Mehta said...

bahut sundar..

Manav Mehta said...

bahut sundar..

Mrs. Asha Joglekar said...

Is bar to lagta hai patidew hee jeet gaye. Badhiya kawita holee par. Asha hai aapki holi rangeen rahee hogee.

डॉ. नूतन डिमरी गैरोला- नीति said...

ha ha ha ..निर्मला जी... चुटकी अच्छी ली ..होली मे तो दिमाग शैतानी से भर जाता है... आपकी कविता भी खूब शैतान लगी... नटखट :))

Anupam karn said...

होली का खूबसूरत रंग !

मनोज गौतम said...

aapko mera pranam

mai aap logaon se bahuut din bad mukhatib ho raha hoon. mai kayi karyon me byast raha. mera pryas hai ki mai fir se blog par kuchh lekar aaoo. maine Museum ki website taiyar kar di hai aaplog mere museum ko www.meerutmuseum.com par dekh sakte hain.

दिगम्बर नासवा said...

आपको नवसंवत्सर की हार्दिक शुभकामनायें ...

Navin C. Chaturvedi said...

हास्य व्यंग्य के रंगों से सराबोर उत्तम कविता|
प्रणाम निर्मला जी|

Narayan said...

बहुत अच्छी फुलझड़ी रही यह कविता होली के मूड में रची बसी हास्य व्यंग्य के रंगों से सराबोर

mridula pradhan said...

bahut achchi lagi.....

Rajendra Swarnkar : राजेन्द्र स्वर्णकार said...

आदरणीया मौसी निर्मला कपिला जी
सादर प्रणाम !

आपकी यह रचना पढ़ तो कभी गया था … मस्ती में कमेंट पब्लिश करना भूल गया था शायद …:)

बहुत मज़ा आया आपकी यह रचना पढ़ कर …

बहुत दिन हो गए अब तो , पोस्ट बदलने का इंतज़ार है …
… सपरिवार स्वस्थ - सानन्द तो हैं न ?

नवरात्रि की शुभकामनाएं !

साथ ही…

नव संवत् का रवि नवल, दे स्नेहिल संस्पर्श !
पल प्रतिपल हो हर्षमय, पथ पथ पर उत्कर्ष !!

चैत्र शुक्ल शुभ प्रतिपदा, लाए शुभ संदेश !
संवत् मंगलमय ! रहे नित नव सुख उन्मेष !!

*नव संवत्सर की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं !*


- राजेन्द्र स्वर्णकार

शिक्षामित्र said...

होली पर भले चूक गए,पर रंग का असर तो सालो भर रहता है।

Rakesh Kumar said...

रामनवमी के पावन पर्व पर हार्दिक शुभकामनाएँ.
मेरे ब्लॉग 'मनसा वाचा कर्मणा' पर आपका इंतजार है.

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ said...

निर्मला जी, होलीसे राम नवमी आ गयी। आप कहां हैं।

............
ब्‍लॉगिंग को प्रोत्‍साहन चाहिए?
लिंग से पत्‍थर उठाने का हठयोग।

Manav Mehta said...

bahut sundar

amrendra "amar" said...

वाह, बहुत बढ़िया

पोस्ट ई मेल से प्रप्त करें}

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner