28 December, 2008


गजल

कुच कर दिखाने की कोशिश तो कर
जीवन बनाने की कोशिश तो कर
खुदा को कोसने से पहले
तकदीर बनाने की कोशिश तो कर
कब तक अन्धेरों से डरता रहेगा
दीया जलाने की कोशिश तो कर
दुश्मन कोई खुदा तो नहीं
उससे टकराने की कोशिश तो कर
मन मे जो चोर लिये बैठा है
उसे डराने की कोशिश तो कर
नाकामी को जीत का आगाज समझ
बिगडी बनाने की कोशिश तो कर
सच से बडा कोई धन नही
उसे भुनाने की कोशिश तो कर
असम्भव कुछ भी नहीं जहां मे
हिम्मत दिखाने की कोशिश तो कर
जीवन कितना अदभुत सुन्देर है
देख्नेने दिखाने की कोशिश तो कर

1 comment:

पोस्ट ई मेल से प्रप्त करें}

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner