28 July, 2010

मेरी हालत आप खुद देख लें

 आज कल मेरा क्या हाल है, ये आप तस्वीर देख कर ही समझ सकते हैं।  बहुत् दिन से नेट से दूर हूँ। , समय नही निकाल पा रही हूँ। कुछ दिन के लिये मेरे घर मे एक परी आयी हुयी है। । अब आप खुद देखिये क्या ऐसे मे मै इसे छोड कर आपके बीच आ सकती हूँ? ।मुझे तो कँघी भी करने की फुरसत नही अगर कर भी लूँ तो भी बाल इसके हाथ मे आये नही कि बस ये हालत हो जाती है। बस हर वक्त ये चाहती है कि नानी के पास ही रहूँ? और  कहती है कि क्या आपको ब्लागिन्ग मुझ से अधिक प्यारी है? मै लाजवाब हो जाती हूँ। शैतान इतनी है कि झट से आवाज पहचान लेती है। बस मेरी आवाज सुनी नही कि कहती है नानी उठा लो। मोबाईल मे गीत सुन कर तो दूध पीती है। या फिर मै इसे लोरी सुनाती हूँ।   इस परी का नाम सावी है। मेरी सब से छोटी नातिन अभी पौने दो माहीने की है मगर मेरे कान कतर दे-- इतनी चालाक है। आज कल के बच्चे भला इतने चुस्त दुरुस्त कैसे होते हैं? पहले तो बच्चे सवा माह मे मुठी नही खोलते थे-- आँखें नही खोलते थे-- और एक ये है कि मुझ से आँख मिला कर बात करती है। कोई अच्छी सी लोरी आप भी लिख दो इसे सुनाऊँगी।
कुछ दिन मे फिर आपसे रूबरू होती हूँ । तब तक इसे आशीर्वाद दें।
हाँ दो तीन दिन पहले राजीव भरोल जी मुझे से मिलने आये थे वो आज कल कैलिफोर्निया मे रहते हैं ,अपने वतन आये तो मुझ से मिले बिना कैसे जा सकते थे? बहुत अच्छा लगा । राजीव धन्यवाद । एक दिन नीरज जाट जी का फोन आया था कि मै श्री नैना देवी के दर्शन करने आ रहा हूँ जाते हुये आपसे मिल कर जाऊँगा। उनका इन्तजार कर रही हूँ। उनको भी धन्यवाद और शुभकामनायें। बस कुछ दिन के लिये क्षमा चाहती हूँ फिर मिलती हूँ। धन्यवाद। हैपी ब्लागिंग।

68 comments:

रंजन said...

सावी को हमारा प्यार..

sada said...

अरे वाह, तो यह बात है आप हम सबसे दूर और सावी के पास हैं, चलिए कोई बात नहीं उसे भी तो अपनी नानी मां का प्‍यार चाहिए, जब तक सावी आपके पास है, तब तक आप यूं ही यदा-कदा उसकी तस्‍वीरो के साथ कुछ वक्‍त हमारे साथ बांट लिया करें, इनकी चंचलता का यही तो राज है ।

खुशदीप सहगल said...

नानी तेरी मोरनी को मोर ले गए,
बाकी जो बचा था ब्लॉगर चोर ले गए,
अच्छी नानी, प्यारी नानी,
रूठा-रूठी छोड़ दे,
जल्दी से इक पप्पी ले ले,
तू कंजूसी छोड़ दे,
नानी तेरी मोरनी को मोर ले गए...

सावी को इस मामा की तरफ से भी प्यारी सी झप्पी दें...आप निश्चिंत होकर हमारी सावी का मन बहलाइए...इससे ज़्यादा ज़रूरी और कोई काम नहीं...आपका आशीर्वाद हम सबके हमेशा साथ है...

जय हिंद...

Bhavesh (भावेश ) said...

सावी को हमारी तरफ से ढेरो प्यार.. रही बात लोरी की तो वो तो खुशदीप जी पहले ही लिख दी है.

रश्मि प्रभा... said...

ज़िन्दगी इतनी खूबसूरत है.............आपको बधाई, बेटी दामाद को आशीष, इस डॉल को प्यार और मुझे मिठाई

arvind said...

सावी को हमारी तरफ से ढेरो प्यार.

संजय भास्कर said...

सावी को हमारी तरफ से ढेरो प्यार..

डा. अरुणा कपूर. said...

सुंदर सी परी सावी को मै अनेको आशिर्वाद भेज रही हूं!...तो आज कल इस नन्ही परी ने आपकी कलम को पकड कर रखा है?... बहूत खूब!... प्यारीसी नातिन के साथ खेलने का आनंद उठाइए!...बधाई!

वन्दना said...

अरे बहुत ही प्यारी है सावी और उतना ही प्यारा उसका नाम है…………सावी को हमारा बहुत सारा प्यार और उससे जरूरी तो दुनिया का कोई भी काम नही हो सकता।

मैं हूँ चंचल
भोली भाली
मीठी मीठी
प्यारी प्यारी
नानी की हूँ
राजदुलारी
घर भर की हूँ
राजकुमारी
मेरी मधुर
मुस्कान पर
हर कोई जाये
बलिहारी

प्रवीण पाण्डेय said...

नन्ही परी इतनी खुशी जो दे रही है आपको। पूरी बटोर लें, फिर बाँटियेगा।

पंकज मिश्रा said...

बहुत खूब। सावी के पास हैं तो कोई बात नहीं। फ्री होइएगा तो कुछ रोचक लिखिएगा, इंतजार रहेगा। और हां सावी को मेरा भी बहुत बहुत प्यार।

shikha varshney said...

अरे इतनी प्यारी नातिन है उसका प्यार बटोरिये झक के ...हम यहीं इंतज़ार करेंगे ...:)

संध्या आर्य said...

wow............

Razi Shahab said...

सावी को हमारी तरफ से ढेरो प्यार..........

ललित शर्मा said...

हां जी,

नानी की ड्युटी आप बखुबी निभा रहीं है।

बहुत अच्छा लगा देख कर के ।

बच्ची को ढेर सारा प्यार और आशीर्वाद

ये अभी से मोबाईल से गाना सुनकर दूध पीती है।

हा हा हा बहुत बढिया।

नानी की परेड करवा रही है।:)

'अदा' said...

are ham to kahte hain..ka zaroorat hai aapko...idhar jhankne ka bhi...jab swarg sa sukh aapki god mein hai...hamlog to hain hi aapke saath...filhaal to aap bas is khushi ko sametiye...
haan nahi to...!!

कुमार राधारमण said...

जो निश्छलता आपको सावी में मिलेगी,वह ब्लॉगिंग में कहां!

डॉ टी एस दराल said...

नानी तो आप हैं ही । अब नैनी बनने का लुत्फ़ भी उठाइए ।
सावी को ढेर सारा प्यार और आशीर्वाद हमारी ओर से ।

कविता रावत said...

Maa ji savi ko dheer saara pyar...
aapko aur saare ghar pariwar ko bahut haardik shubhkamnayne.....
badi-badi akhiyon se jaise hamein hi ektak dekh rahi aisa lag raha hai savi betiya ko dekhkar....

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

सवी को बहुत स प्यार और शुभकामनायें ....ब्लोगिंग तो होती रहेगी पर यह लम्हे फिर कहाँ मिलने वाले हैं ...

P.N. Subramanian said...

परी को प्यार और आपको बधाई.

rashmi ravija said...

आपकी नातिन की फोटो से तो मेरी नज़रें ही नहीं हट रही....बहुत प्यारी और शरारती लग रही है...उसे ढेरों आशीर्वाद.
आप जम कर खेलिए उसके साथ...लोरी सुनाइये...हम इंतज़ार कर लेंगे ,हाँ बीच बीच में उसकी फोटो पोस्ट करते रहिएगा

Sadhana Vaid said...

निर्मला दी, इतने दिनों के बाद आपको सावी के साथ देख के बड़ी खुशी हुई ! उसके लिये हमारा ढेर सारा प्यार और आशीर्वाद प्रेषित है और आपके लिये ढेर सारी बधाइयाँ और शुभकामनाएं ! इस खुशी को भरपूर जी लीजिए ! ब्लॉग जगत तो वक्त के किसी भी मुकाम पर आपको अपने साथ खड़ा मिलेगा ! तस्वीरें बहुत प्यारी हैं !

अनामिका की सदायें ...... said...

नानी की ये हालत देख कर एक गाना याद आ रहा है...

नानी तेरे ब्लोग्स को मोर ले गए...
बाकी जो बचा था सावी के बोल ले गए...


हा.हा.हा.

एन्जोय करिये जी ये दिन लौट के फिर नहीं आने वाले. हम तो फिर आ जायेंगे...हा.हा.हा.

अजय कुमार said...

जीवन का आनंद ले रही हैं आप ।
फिल्म ’कभी-कभी’ का गाना ’मेरे घर आई एक नन्ही परी ’ गाते रहिये ।

Arvind Mishra said...

बहुत प्यारी है सावी ,धिठौना लगा दीजिये! आशीष !

अजय कुमार झा said...

अरे इस प्यारी सी अनमोल सावी पर तो जन्म भर की ब्लॉगिंग कुर्बान ....सावी को हमारा बहुत बहुत प्यार...........

चला बिहारी ब्लॉगर बनने said...

निर्मला जी,
अभी त आप सुभद्रा कुमारी चौहान बनकर अपने खोए हुए बचपन को याद कीजिए... भुला जाइए ई ब्लॉग्गिंग का दुनिया... अऊर हमरे तरफ से बचिया को बहुत बहुत प्यार दीजिए...ब्लॉग्गिंग त फिर से मिल जाएगा, ई पल भुला गया त बहुत मोस्किल है मिलना... एक बार फिर, हमरा बहुत बहुत प्यार!

MUFLIS said...

सावी को
ढेरों ढेरों ढेरों
आशीर्वाद . . .

मनोज कुमार said...

सावी को हमारी तरफ से ढेरो प्यार!

PRAN SHARMA said...

SAAVEE AAP PAR GAYEE HAI.PYAAREE-
NANHEE GUDIYA KO DHER SAARAA
AASHIRWAD IN PANKTIYON KE SAATH --
LUBHAATEE , RIJHAATEE RAHE
PYAAREE GUDIYA
SADAA MUSKRAATEE RAHE
NANHEE GUDIYA

महफूज़ अली said...

सावी को ढेर सारा प्यार.... और आपको बहुत बहुत शुभकामनाएं....

राम त्यागी said...

सावी को बहुत सारा प्यार ...परी प्रथम ..बाकी काम बाद में !!

दीपक 'मशाल' said...

ज़रा देखो तो कितने गौर से देख रही है बदमाश नन्ही परी.. मैं वहाँ होता तो आपके पास नहीं आती कभी.. :)

Udan Tashtari said...

आराम से आईये..सावी बहुत प्यारी है..ढ़ेर सा प्यार और आशीर्वाद!!

वाणी गीत said...

इस नन्ही परी को ढेर सारा लाड़ दुलार ...!

ajit gupta said...

सावी को ढेर सारा प्‍यार। निर्मलाजी, आजकल अपना भी यही हाल है, इसलिए सुबह-सुबह ही कुछ देर के लिए कम्‍प्‍यूटर पर बैठ पाती हूँ। यही कारण है कि आपकी पोस्‍ट इतनी देर बाद देख पायी। अपना टेलीफोन नम्‍बर दें, बहुत दिन हो गए बात तो करें।

सुरेन्द्र "मुल्हिद" said...

chalo accha hai nani maa ka pyaar mil raha hai gudiya ko...

राजभाषा हिंदी said...

परी को प्यार और आपको बधाई!

सलीम ख़ान said...

आप हम सबसे दूर और सावी के पास हैं!!!!!!!!!!!

सुलभ § Sulabh said...

सावी को हमारी तरफ से प्यार और आशीर्वाद!

आप व्यस्त रहें और नातिन संग मस्त रहे... ब्लोगिंग तो हो ही जाएगी. वैसे मैं भी इनदिनों ब्लॉग जगत से थोडा दूर दूर हूँ.

पंकज सुबीर said...
This comment has been removed by the author.
पंकज सुबीर said...

तरही का रंग मन पर चढ़ा था लेकिन नन्‍हीं सी परी को देख कर तरही के सारे विचार इस तरफ मुड़ गये और बरबस ही ये ग़ज़ल बन गई यहीं कमेंट बाक्‍स में ।

ये किसके रूप की फैली हुई शुआएं हैं
के जिसको देख लजाईं सी अप्‍सराएं हैं

सुना है नानी के घर आई है परी कोई
ठहर के देखने जिसको लगीं हवाएं हैं

वो चांदनी से नहा कर धरा पे आई है
उसे ही देख मगन हो रहीं दिशाएं हैं

उमड़ घुमड़ के हैं छाए ये मेघ ममता के
फलक पे मन के घिरीं नेह की घटाएं हैं

ये लाड़ली है दुलारी है अपनी नानी की
लबों पे सब के इसी के लिये दुआएं हैं

प्रतीक बेटियां होती हैं खुशनसीबी का
जो देवताओं ने सुन लीं वो प्रार्थनाएं हैं

किलक ये गूंजती उसकी है घर में आंगन में
के मंदिरों में कहीं गूंजतीं ऋचाएं हैं

'सुबीर' आओ चलो हम भी चल के देखें उसे
फरिश्‍ते, देवता सब तो उधर ही जाएं हैं

पं.डी.के.शर्मा"वत्स" said...

नन्ही परी सांवी को ढेरों स्नेहाशीष...कुल का खूब नाम रौशन करे!

gaurtalab said...

sawi ko dher saara dular...meri bhi beti ek saal ki hai .jab-jab laptop kholta hoon chali aati hai us par baithne ke liye.bahut problem hota main aapki samsya ko sabse achhi tarah samajhne wala insaan hoon..

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ said...

हमारी ओर से भी सावी के लिए ढेर सारा प्यार।
…………..
पाँच मुँह वाला नाग?
साइंस ब्लॉगिंग पर 5 दिवसीय कार्यशाला।

anjana said...

नन्ही परी सांवी को ढेर सारा प्यार और आशीर्वाद |

राजेश उत्‍साही said...

निर्मला जी सावी का नाम सुनकर रावी नदी की याद आ गई। आप तो वहीं हैं। सचमुच आप नानी अम्‍मां फोटो मैं तो लगती ही थीं,अब आप सचमुच में लग रही हैं,जब यह नन्‍हीं परी आपकी गोद में है। हमारी ओर से बहुत बहुत प्‍यार करें उसे। उसे देखकर जो कविताएं आपकी गुनगुना रही होंगी,उन्‍हें आपके ब्‍लाग पर पढ़ना चाहेंगे।
आपको एक शुभ सूचना कि आपके प्रोत्‍साहन से मेरी श्रीमती नीमा ब्‍लाग पर आ गई हैं। जब आपको समय मिले तो उनके ब्‍लाग निम्‍बोली यानी http://neemboli.blogspot.com पर आएं।

राज भाटिय़ा said...

निर्मला जी नमस्कार, मै बीमार था इस कारण बधाई थोडी लेट दे रहा हुं, बहुत बहुत बधाई हो आप को, ओर सावी को ढेरो प्यार

Parul said...

aapki post aur tasveer dekhkar main :) ho gayi ...savi ..so cute...naam naya hai accha hai..vaise iska arth kya hota hai !

रंजना said...

ढेरों aashirvaad ....

iishwar aisi sukhad vyastta sabko den...

ज्योति सिंह said...

nanhi pari ko dher sara pyar ,is anmol pal ko jee bhar kar jeeye .ye muskaan sada bani rahi .

Mrs. Asha Joglekar said...

तो ये कारण है आपका हम सब से दूर रहने का । चलिये सावी के पास हैं तो कुछ कहेंगे नही नही तो वह अपनी बडी बडी आँखें दिखा कर हमे चुप करा देगी ।
नानी वाला ये काम है तो बडा प्यारा चाहे बाल बिखरे ही क्यूँ ना रहें ।

गौतम राजरिशी said...

नन्हीं परी को देखकर मन पुलकित हो गया मैम। इस शुभागमन पर खूब-खूब सारी बधाईयां।

इसी बहाने गुरूदेव की ग़ज़ल पढ़ने को मिल गयी। अद्‍भुत काफ़िये...अहा...अप्सरायें वाला शेर तो जैसे एकदम से यहीं के लिये बुना गया है।

देवेश प्रताप said...

सावी को ढेर सारा प्यार .....

निर्मला कपिला said...

वाह मैने तो देखा ही नही आज मेरी परी को कितने कीमती तोहफे मिले हैं प्राण भाई साहिब का आशीर्वाद---- और सुबीर की गजल क्या कहने इस से बडा तोहफा और आशीर्वाद और क्या हो सकता है ? गौतम धन्यवाद इतना कीमती समय मेरी सावी के लिये निकाला। बाकी सभी का भी बहुत बहुत धन्यवाद। बस 4-6 दिन मे सब से मिलती हूं।

नीरज गोस्वामी said...

निर्मला जी आपके ब्लॉग पर सबसे देर से आया उसके लिए कान पकड़ कर माफ़ी...प्यारी राजदुलारी सावी को देख कर आत्मा तृप्त हो गयी...जिसकी गोद में सावी हो उसे भला और क्या चाहिए...??? ये बेशकीमती पल हैं इनका पूरा लाभ उठाइए...एक सेकण्ड को भी उसे मत छोडिये...जब मैं मिष्टी के पास होता हूँ तब मेरा भी येही हाल होता है...ब्लोगिंग का ब भी याद नहीं रहता...
सावी को ढेर सा आशीर्वाद...ये भी अपनी नानी की तरह संवेदनशील बने और खूब सारी ग़ज़लें लिखे...:))
नीरज

Vijay Pratap Singh Rajput said...

सावी को हमारी तरफ से ढेरो प्यार.
बहुत बहुत बधाई हो आप को

Rajeev Bharol said...

निर्मला जी,
यह मेरा सौभाग्य है की मैं आपसे मिल पाया. आपकी मेहमाननवाज़ी कभी नहीं भूलेंगे. मेरी भांजी बहुत ही सुंदर दिख रही है..काला टीका लगा कर रखें.

मेरी बहन और मम्मी भी अब आपकी कहानियां पढ़ कर आपकी फैन हो गयीं हैं.

चरणस्पर्श,
राजीव भरोल

Babli said...

आपको बहुत बहुत बधाइयाँ नानी होने पर! सावी को मेरा ढेर सारा प्यार दीजियेगा!

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन said...

बिटिया के प्यार में मग्न नानी जी को देखकर स्पष्ट है कि मूल से सूद प्यारा होता है। शुभकामनायें!

इस्मत ज़ैदी said...

निर्मला जी ,
बहुत प्यारी है आप की नातिन माशा अल्लाह
बुरा म्त मानियेगा लेकिन आप ने क्या लिखा मैं नहीं पढ़ पाई मेरा पूरा ध्यान केवल आप की परी पर था ,
बहुत बहुत बधाई
परी को ख़ूब सारा आशीर्वाद

विनोद कुमार पांडेय said...

माता जी,प्रणाम आप के हालत देखा ..नातिन जी के साथ व्यस्त है..अच्छा है, आख़िर नानी है ..हमें इंतज़ार है आपके कहानियों का...छोटी बच्ची को आशीर्वाद और आप को प्रणाम..

Akshita (Pakhi) said...

कित्ती प्यारी परी...ढेर सारा प्यार.
_____________
'पाखी की दुनिया' में आपका स्वागत है.

Babli said...

बहुत दिनों के बाद आपकी टिपण्णी मिलने पर बेहद ख़ुशी हुई!
तस्वीर देखकर समझ रही हूँ कि नानी जी अपनी लाडली पोती को लेकर बहुत व्यस्त हैं और क्यूँ न हो आखिर इतनी प्यारी छोटी सी गुड़िया जो है! सावी को मेरा ढेर सारा प्यार दीजियेगा!

आशीष/ ASHISH said...

निर्मला माँ,
नमस्ते!
मैं तो..... बड़ी-बड़ी अंखियों से डर गया जी!
आशीष का आशीष सावी को!
और आपका आशीष को!

श्रद्धा जैन said...

Nirmala ji
itni sweet gudiya hai ki man moh leti hai... aap enjoy kare
aise din baar baar kaha milte hain

ZEAL said...

.

सावी को ढेर सारा प्‍यार।

.

पोस्ट ई मेल से प्रप्त करें}

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner