11 September, 2009

गीत
आज ये मेरी 150 वीं पोस्ट जो मेरे श्रद्धेय दुरूदेव श्री प्राण शर्मा जी को समर्पित है
मेरा ये गीत मेरे गुरूदेव श्रद्धेय प्राण शर्मा जी को समर्पित है। गुरू जी ने लिखने के लिये तो गज़लें दी थी मगर मुझ अल्पग्य ने गीत रच दियेौर गुरू जी ने इन्हें संवार कर और मेरी गलतियाँ निकाल कर इन्हें भी सुन्दर बना दिया । उनमे से ये पहला गीत अपके सामने प्रस्तुत करने का आदेश दिया।

मैं गिरधर के घर जाऊँगी
उसकी जोगन बन जाऊँगी

मैं तेरे नाम की प्यासी कृ्ष्णा
अब अपनी प्यास बुझाऊँगी

मन मे मेरे तू ही तू है
तेरे दर्शन को आऊँगी

तू मेरी अर्ज़ सुने न अगर
प्राणों का भोग लगाऊँगी

अब कर लो मेरा वरन प्रभू
मै भटक भटक मर जाऊँगी

तुझ बिन मुझ को ना भावे कुछ्
हर पल ही तुझ को ध्याऊँगी

ये मेरा वादा रहा तुझ से
इक पल न तुझे विसराऊँगी

मुरली को बजाओ फिर कान्हा
मै मीरा बन कर गाऊँगी

तेरे बिन कोई ना मेरा
मै किस घर को जाऊँगी

36 comments:

Mithilesh dubey said...

आपको बहुत-बहुत बधाई 150 वी पोस्ट के लिए। आपकी रचना हमेशा की तरह इस भी बार लाजवाब रही। आपकी इस रचना मे गजब का समर्पण दिखा। बहुत खुब।

विनोद कुमार पांडेय said...

तुझ बिन मुझ को ना भावे कुछ्
हर पल ही तुझ को ध्याऊँगी
ये मेरा वादा रहा तुझ से
इक पल न तुझे विसराऊँगी....

150 वी पोस्ट के लिए आपको बहुत-बहुत बधाई!!
लाजवाब रचना!!!

अनिल कान्त : said...

150 वी पोस्ट के लिए आपको बहुत-बहुत बधाई!!
लाजवाब रचना!

कुलवंत हैप्पी said...

बुल्ले शाह को भी आपनी भावनाओं ने पीछे छोड़ दिया। अद्भुत रचना थी, 150वीं पोस्ट के लिए बधाई हो जी

आशीष खण्डेलवाल (Ashish Khandelwal) said...

गीत बहुत सुंदर है.. 150वीं पोस्ट की बधाई स्वीकारें.. हैपी ब्लॉगिंग

ताऊ रामपुरिया said...

150 वीं की पोस्ट की हार्दिक बधाई.

रामराम.

ओम आर्य said...

krishana ki lagan kuchh aisi hi hoti
......purn samarpan bhakti me hi hota hai .......RADHEKRISHAN
150th post par dhero badhayi

Babli said...

१५० वी पोस्ट के लिए मेरी ढेर सारी बधाइयाँ और शुभकामनायें! बहुत ही सुंदर रचना लिखा है आपने! आपका हर एक पोस्ट शानदार है और मुझे पढ़ने में बहुत अच्छा लगता है!

mehek said...

kanha ko samarpit ye sunder geet aur 150post dono ke liye bahut badhai

खुशदीप सहगल said...

निर्मला जी, 150...1500...15,000...1,50,000...कामना है कि ये सिलसिला यूहीं अनवरत चलता रहे

Pankaj Mishra said...

आपको बहुत-बहुत बधाई 150 वी पोस्ट के लिए। आपकी रचना लाजवाब रही।

मीत said...

congratulations!!!

the great power in ur pen...
meet

vandana said...

150 वी पोस्ट के लिये बधायी।
प्रभु प्रेम को समर्पित गीत्………………………अत्यन्त सुन्दर्।
समर्पण का सुन्दर भाव।

Pt.डी.के.शर्मा"वत्स" said...

तुझ बिन मुझ को ना भावे कुछ्
हर पल ही तुझ को ध्याऊँगी||

प्रभु चरणों में स्व का समर्पण!! बेहतरीन भक्तिमय रचना!!
आभार्! साथ ही आपको 150वें आंकडें तक पहुंचने की बधाई.......

रंजना said...

बहुत-बहुत बधाई आपको 150 वी पोस्ट के लिए।

भक्तिमय समर्पण का सुन्दर भाव लिए अद्भुत रचना मन मोह गयी...

विनय ‘नज़र’ said...

जय श्री कृष्ण
---
तकनीक दृष्टा

Dr.T.S. Daral said...

१५०वी पोस्ट के मुकाम तक पहुँचने के लिए बहुत बधाई.
प्रभु प्रेम से ओ़त प्रोत ये गीत बड़ा प्यारा लगा.

Dr. Amarjeet Kaunke said...

150 vi post k liye hardik shubhkamnaey......amarjeet

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन said...

बहुत सुन्दर गीत/भजन, डेढ़ सौ पूरे करने की बधाई बोनस में. [श्रद्धेय प्राण शर्मा जी के नाम से पहले टाइपिंग में कुछ गलती रह गयी है, कृपया जांच लें.]

योगेश स्वप्न said...

nirmalaji, aaj aapka bhakti geet padh kar anand aa gaya,

bahut hi achcha likha hai aapne , bhavishya men aur bhi likhen , shubhkaamnayen. badhaai.

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...

सुंदर रचना के लिए बधाई!

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ said...

हमेशा की तरह शानदार रचना।
-Zakir Ali ‘Rajnish’
{ Secretary-TSALIIM & SBAI }

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

"मुरली को बजाओ फिर कान्हा
मै मीरा बन कर गाऊँगी"

निर्मला कपिला जी!
150वीं पोस्ट के रूप में आपने भक्तिरस की सुन्दर
कविता प्रस्तुत की है।
बहुत-बहुत बधाई!

Aflatoon said...

बधाई । सातत्य बना रहे ।

creativekona said...

आदरणीया निर्मला जी ,
आपका गीत पढ़कर भक्ति काल की याद आ गयी
बहुत सुन्दर रचना .
हेमंत कुमार

vikram7 said...

150 वी पोस्ट के लिए बधाई, सुन्दर भावो से भरा भक्ति गीत

अल्पना वर्मा said...

-150 vin post ke liye bahut bahut badhaayee!
bhakti geet lajawab hai!
-aap ke गुरूदेव श्रद्धेय प्राण शर्मा जी ko hamara bhi naman swikaar ho.

दिगम्बर नासवा said...

150 VI POST VO BHI ITNI SUNDAR PRARTHNA GEET KE SAATH .... KAMAAL KA LIKHA HAI .... ITNI JALDI AAPKI RACHNAAON SE AAPKI KAHAANIYON SE AATMIYTA HO JAAYEGI PATA NAHI THAA .... BAHOOT SUNDAR ...

Udan Tashtari said...

१५० वीं पोस्ट की बहुत बहुत बधाई एवं शुभकामनाऐं....रचना तो गज़ब की बन पड़ी है...वाह!!

Sudhir (सुधीर) said...

अब कर लो मेरा वरण प्रभू
मै भटक भटक मर जाऊँगी

वाह क्या बात हैं! अत्यंत प्रभावी एवं सुन्दर अभिव्यक्ति...आपको १५० पोस्ट की हार्दिक बधाई.

सर्वत एम० said...

आप जैसी समर्थ, परिपक्व, अनुभवी, स्थापित रचनाकार को कमेन्ट देना बड़ी टेढी खीर है. हमेशा एक ही विचार आता है, अब क्या कहा जाये? एक भय बना रहता है, कहीं दुहराव न हो जाये. आप के लिए कविता बाएँ हाथ का खेल है, क्यों, है ना!!

मुकेश कुमार तिवारी said...

निर्मला जी,

१५०वीं पोस्ट पर दिल से बधाई, इतना लिखना और लोगों से बाँटना ही आपके समर्पण को बताता है। आगे भी आप लिखती रहें इन्ही कामनाओं के साथ।

ईश आराधना और वह भी भगवान श्रीकृष्ण की तो प्रेम में डूबी हुई ही होती है, अच्छा लगा यह गीत।

सादर,

मुकेश कुमार तिवारी

KK Yadav said...

150 वी पोस्ट के लिए आपको बहुत-बहुत बधाई!!


"शब्द सृजन की ओर" पर क्रमवार देखें- "हिंदी का सफरनामा"

राज भाटिय़ा said...

१५० वी पोस्ट ओर वो भी एक भजन के रुप मै आप को बधाई, ओर आप का धन्यवाद इस सुंदर भजन रुपी गीत के लिये, बहुत अच्छा लगा, इसे मै यहां अपनी भजन मंडली को दुंगा,( जो भारतीया लोग यहां भजन करते है, शोकिया) छाप कर.

"लोकेन्द्र" said...

वाह अम्मा.....
१५०वीं रचना को क्या खूब संजोया आपने......

दर्पण साह "दर्शन" said...

3-4 din se na aa pane ke karan kshama prarthi hoon...

aapka sneh comment ke madhyaam se mujhe milta raha dhanyavaad...

aapke teeno geet acche lage har ek main individual comment kar raha hoon....

...jaiase is geet ki ye do line dil ko choo gayi....
"मन मे मेरे तू ही तू है
तेरे दर्शन को आऊँगी"
&
"मुरली को बजाओ फिर कान्हा
मै मीरा बन कर गाऊँगी"

Pranam

पोस्ट ई मेल से प्रप्त करें}

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner