11 May, 2009

मुझे गज़ल लिखनी नही आती कोशिश की है अगर इस पर प्रतिक्रिया देते समय कोई मुझे इसमे गलती बतायेगा तो मुझे बहुत खुशी होगी उसका उपकार्र मानूँग क्या कोई मेरी कलम को प्रेरित कर्ने और दिशा देने की कृ्पा करेगा?

गज़ल

बुज दिली कहो या कहो तकदीर
लाँघ सकी ना हाथ की एक लकीर

दूर नहीं था सुन्दर सा सपना
पर साथ नहीं थी मेरी तकदीर

परँपरा के कर्ज़ चुकाते ढोते
रह गये दिल के हम फकीर

इतिहास पढा था बचपन मे
पढी थी उसमे एक तहरीर

लाँघने वाले प्रेम के दरिया
चढ गये भेँट कई राँझे ही्र

दिल रोता है आँखेँ रोती हैँ
दिल मे रहती उसकी तसवीर

उसने भी मुड कर ना देखा
ना सोची समझी कोई तदबीर

शायद देना चाहता हो दर्द मुझे
सालता रहे मुझे मेरा जमीर

10 comments:

"अर्श" said...

दूर नहीं था सुन्दर सा सपना
पर साथ नहीं थी मेरी तकदीर

YE SHE'R BAHOT KHUB HAI,AAP TO UTNI LIKH RAHI HAI JITNAA HAM JAISE SIKHTE HUYE BHI NAHI LIKH SAKTE.. BADHAAYEE

ARSH

P.N. Subramanian said...

"परँपरा के कर्ज़ चुकाते ढोते
रह गये दिल के हम फकीर" बहुत ही खूबसूरत. आभार.

P.N. Subramanian said...
This comment has been removed by the author.
संध्या आर्य said...

aapne bahut hi sunder nazm likhe hai.......phoolo ko chaman nasib ho....yahi duaa karate hai.

विनय said...

इतिहास पढा था बचपन मे
पढी थी उसमे एक तहरीर

waah ji waah,

नीरज गोस्वामी said...

निर्मला जी कोशिश करती रहिये देखना आप एक दिन बहुत अच्छा लिखेंगी...शायरी के लिए किसी को गुरु मान कर उससे बारीकियां सीखिए...फिर उसका आनंद देखिये...
नीरज

समयचक्र - महेन्द्र मिश्र said...

बहुत ही खूबसूरत

दिगम्बर नासवा said...

दिल रोता है आँखेँ रोती हैँ
दिल मे रहती उसकी तसवीर

आपकी सोच मौलिक है............ग़ज़ल का शिल्प तो आ ही जाएगा ..........
बस आप लिखते रहें............सुन्दर हैं सब शेर

ओम आर्य said...

कहीं से नहीं लगता, आपका गजल नहीं लिखती. बहुत अच्छा लिखा है आपने.

सुशील कुमार said...

मैडम आप अच्छा लिखती हैं। कृपया जारी रखें। मेरी शुभकामनायें।

पोस्ट ई मेल से प्रप्त करें}

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner