03 August, 2009

गज़ल ------एक और सफर पर

पिछले दिनों मुझे द्विजेन्द्र "द्विज"जी ने अपनी पुस्तक गज़ल संग्रह `जन गण मन ` भेजी और उस पर अपनी प्रतिक्रिया करने को कहा । मै कई दिन बहुत तनाव मे रही कि मुझे तो गज़ल की ABC भी नहीं पता तो इतने बडे शायर की इतनी लाजवाब पुस्तक के बारे मे कैसे क्या कहूँ।अंत मे मैने उन से क्षमा प्रार्थना की कि इस पर कुछ भी कहना मेरे सामर्थ्य से बाहर है।इसके बाद एक बहुत बडे गज़लकार की गज़lल पर टिप्पणी दी और जो शेर मुझे बहुत अच्छा लगा उस पर लाजवाब लिख दिया फिर उनका मुझे ई मेल आया कि चलो अपको एक शेर तो पसंद आया धन्यवाद ।तब मुझे महसूस हुय कि अब मुझे गज़ल सीख लेनी चाहिये।
उसके बाद जब मैने अपने शहर के कवि सम्मेलन मे जाना शुरू किया तो कई बार सोचा कि गज़ल सीखूँ स. बलबीर सौणी जी की गज़लों से इतना प्रभावित हुई कि उनसे गज़ल सीखने का निर्णय लिया ।कल ही उन्हें गुरू जी के रूप मे माना और उन से पंजाबी गज़ल सीखनी शुरू कर दी। स. सैणी जी की लगभग 13 पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं जिनमे अधिक गज़ल संग्रह हैं। हरियाणा अकेडमी दुआरा भी उनकी पुस्तक का प्रकाशन हुआ है और सम्मानित हुये हैं जालन्धर दूर दर्शन पर भी उनकी गज़लों का प्रसारण होता रहता है ।उनके पहले सबक मे एक पंजाबी गज़ल लिखी मगर उसे अभी पोस्ट नहीं कर सकती क्यों कि अभी पंजाबी मे टाईप करने मे अस्मर्थ हूँ उस सबक से एक हिन्दी गज़ल लिखने की कोशिश की है। उन्हीं के आशीर्वाद से उसे आपके सामने प्रस्तुत करूँगी।
। पहली कोशिशै है इस लिये आप सब का सहयोग चाहूँगी और गुरू जी का आशीर्वाद। वैसे तो वो मुझे गुरू जी नहीं कहने देना चाहते उनका कहना है कि तुम अपने शहर की बेटी हो और मेरी छोटी बहन की तरह हो इस लिये मुझे गुरू जी ना कहो । मगर बडे भाई भी गुरू समान होते हैं इस लिये उन्हें गुरू जी ही कहूंगी।हाँ अर्श का भी धन्यवाद करना चाहूँगी क्यों कि जहाँ मैं अटक गयी थी वहाँ उसने मेरी सहायता की। अभी भी उसकी तसल्ली नहीं थी इस गज़ल पर मगर पहले प्रयास पर कुछ तो रियायत होनी ही चाहिये ।मै यहाँ`` द्विजेन्द्र द्विज`` जी का भी धन्यवाद करना चाहूँगी कि उन की पुस्तक की वजह से मुझे गज़ल सीखने का ख्याल आया।
बह`र
ss ss ss ss ss

तेरे सपनों मे आऊँ तो कैसे
तुझ को मै पास बुलाऊँ तो कैसे

यूँ रूठा है वो रूठे हैं अरमाँ
कोई भी जश्न मनाऊँ तो कैसे

दीदार -ए-हसरत तो अपनी भी थी
चाँद न हो ईद मनाऊँ तो कैसे

तेरे आँसू ले लूँ तकदीर नहीं
अपने भी अश्क छुपाऊँ तो कैसे

लोग यकीं माने यूं अफसानो पर
अपना सच भी बतलाऊँ तो कैसे

किसने कैसे कब तोडा है हमको
मैं जख्मे दिल दिखलाऊँ तो कैसे

33 comments:

Dhiraj Shah said...

खुबसुरत गजल।

संजीव गौतम said...

ये ग़ज़ल साफ़-साफ कह रही है कि आपको ग़ज़लें बहुत पहले कहना शुरू कर देना चाहिये था. ख़ैर हज़ारों लोग तो अपनी आधी उम्र ग़ज़लों में बिता देने के पश्चात भी ऐसी ग़ज़ल नहीं कह पा रहे हैं. मैं आपके जज़्बे को प्रणाम करता हूं. जिसके पास भाषा का मुहावरा है वह जो भी लिखेगा अच्छा ही लिखेगा जैसे कोई अच्छा दर्जी ऐसी ड्रैस बनाने को दी जाये जो उसने पहले नहीं बनायी हो तो तो वह नयी ड्रैस भी उतनी ही ख़ूबसूरत बनायेगा जैसे और बनाता रहा है. अच्छी ग़ज़ल है.

विनोद कुमार पांडेय said...

gazal bahut achcha hai..
pyar me dard ki anubhuti hoti hai to kuch yahi haal hota hai..

aap kahati hai ki gazal nahi aata aapko..
behad umda..dhanywaad..

विवेक सिंह said...

आपका गज़ल सीखने का किस्सा पढ़कर मेरा भी मन हो रहा है गज़ल सीखने का,

हमने भी एक पोस्ट लिखी थी गजल पर: हम तो गजल कहेंगे .

sada said...

बहुत ही अच्‍छी गजल लिखी है आपने बहुत बहुत बधाई ।

भारतीय नागरिक - Indian Citizen said...

मैं भी संजीव से सहमत हूं>

AlbelaKhatri.com said...

kyaa khoob ghazal !
bahut khoob ghazal !

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

बहुत बढ़िया गजल है।
प्रस्तुत करने के लिए आभार।

Pt.डी.के.शर्मा"वत्स" said...

बहुत बढिया गजल्!!!
आभार्!

M VERMA said...

बेहतरीन गजल
वाह

दिगम्बर नासवा said...

कौन कह सकता है आपको gazal kahna नहीं आता.........bahoot lajawaab tarike से piroya है इस gazal को आपने..........
khoobsoorat

दर्पण साह "दर्शन" said...

AAPKI PEHLI GHAZAL NE HI DHAAMAL MACHA DIYA....


तेरे आँसू ले लूँ तकदीर नहीं
अपने भी अश्क छुपाऊँ तो कैसे..........




...WAH AAPKA YE SHER TO BAHUT BAHUT BAHUT PASAND AAIYA.

परमजीत बाली said...

बहुत सुन्दर गज़ल है बधाई।

महामंत्री - तस्लीम said...

Bahut shaandar gazal kahi hai Aapne. Badhayi.
-Zakir Ali ‘Rajnish’
{ Secretary-TSALIIM & SBAI }</a

pran said...

WAH NIRMLA JEE,PAHLEE GAZAL AUR
ITNEE DAMDAAR!DEKH KAR ATYANT
PRASANNTA HUEE HAI KI AAPNE GAZAL
VIDHA MEIN AATE HEE CENTURY LAGAA
DEE HAI.ISEE TARAH CENTURY LAGAATEE
RAHEN ,MEREE SHUBH KAMNA HAI.

ओम आर्य said...

बहुत ही खुब है आपकी यह रचना जिसका कोई जबाव नही ........यह सफर दिल को छूता हुआ निकल गया.......बधाई

‘नज़र’ said...

बहुत बढ़िया ग़ज़ल है
---
1. चाँद, बादल और शाम
2. विज्ञान । HASH OUT SCIENCE

kshama said...

बेहतरीन ग़ज़ल से रु -ब -रु कराया आपने ..! आपके आलेख पे तो क्या टिप्पणी दूँ...इतनी क़ाबिल नही..!

"अर्श" said...

पहली ग़ज़ल और ये धमाल वाकई अद्भूत है , निश्चित रूप से आपको भी एक सुखद अनुभूति हुई होगी ... हलाकि आपने जिस तरह से म्हणत की है वोही आपके सामने है ... इस उम्र में आप जीतनी म्हणत करती है साहित्य के लिए वो आश्चर्यचकित कर देने वाला है कितनी ऊर्जा है आप में ... और इस पहली ग़ज़ल के बारे में कुछ भी कहाना एक हद से परे है... जब ग़ज़ल पितामह श्री प्राण शर्मा जी खुद आपकी प्रशंसा करते नहीं थक रहे तो फिर मेरी क्या मजाल के कुछ कहूँ वाकई बहोत ही बढ़िया ग़ज़ल कही है आपने कुछ एक शे'र तो ऐसे है के वाकई दिल उनपे कड़े होकर करोडो दाद दे रहा है अलग से ... सादर चरणस्पर्श

अर्श

डॉ. मनोज मिश्र said...

कोई शक नहीं, लिखा आपनें बेहतरीन है ,बधाई.

प्रवीण शुक्ल (प्रार्थी) said...

प्रणाम माँ मै क्या कहूँ बस नतमस्तक हूँ इतनी बेहतरीन गजल एक एक शेर में वजन है और कई शेर टी यैसे बन पड़े है की दिल को छू जाते है मैंने आप को बाते तो है की मै भी लिख रहाहूँ पर बन ही नहीं रहे सब कविता ही बनते चले जा रहे है एक जो कुछ कुछ लगता है प्रस्तुत है
कैसी तरतीबी से साधी है हद ,,
शमशेरो पे शेर बनाऊं तो कैसे ,,,
मेरा प्रणाम स्वीकार करे
सादर
प्रवीण पथिक
9971969084

rohitler said...

बेहद खूबसूरत...

सतपाल said...

wish you all the best!

M.A.Sharma "सेहर" said...

आपने साबित कर दिखाया ...
यदि हौसले हो बुलंद तो इंसान क्या नहीं कर गुजरता ..

लोग यकीं माने यूं अफसानो पर
अपना सच भी बतलाऊँ तो कैसे

पहली ही ग़ज़ल लाजवाब !!!

अब आपकी बहादुरी को नमन मेरा ..:)

शारदा अरोरा said...

बहुत सुन्दर , अपनी कशमकश ऐसे भी बयाँ होती है |

रंजना [रंजू भाटिया] said...

बहुत सुन्दर लगी आपकी यह गजल शुक्रिया

पंकज सुबीर said...

पहली ही ग़ज़ल में धूम मचा दी है आगे क्‍या होगा । गज़ल में भावों को भलि भांति व्‍यक्‍त किया गया है । पहले कदम पर मेरी बधाई ।

vandana said...

gazal padhkar kahin se bhi nhi laga ki pahli baar likhi gayi gazal hai..........aapmein to ye kshamta janmjaat hi hai shayad..............bahut hi khoobsoorat gazal .........har alfaz lajawaab.

मुकेश कुमार तिवारी said...

निर्मला जी,

जब अर्श, और स्वंय गुरूजी श्री पंकज सुबीर साहब ने कहा तो हम कहाँ?

बहुत ही खूबसूरत आपने भावों को बयाँ करती हुई गज़ल। मुझे यह शे’र बहुत पसंद आया :-

लोग यकीं माने यूं अफसानो पर
अपना सच भी बतलाऊँ तो कैसे

सादर,

मुकेश कुमार तिवारी

श्याम सखा 'श्याम' said...

पहली गज़ल वाह खूब....
आगाज़ ही बढिया है आगे के सफ़र के लिये शुभकामनाएं
श्याम सखा श्याम

Pakhi said...

Sundar likhti hai ap.

पाखी की दुनिया में देखें-मेरी बोटिंग-ट्रिप

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन said...

आगाज़ ऐसा है तो अंजाम कैसा होगा! पहली ग़ज़ल ही बहुत सुन्दर है निर्मला जी...

अनिल कान्त : said...

मुझे बहुत पसंद आई...सचमुच बहुत
आज ही घर से वापस आया हूँ...राखी पर घर गया था

पोस्ट ई मेल से प्रप्त करें}

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner