25 June, 2009

क्या ये सज़ा कम है (कविता )

इस हद तक जाना
तुम्हारी मौत को
शब्दों मे भुनाना
और
वाह वाह लूट कर
खुद को खुद की
नज़रों मे गिराना
क्या कहते हो
क्या ये सज़ा कम है
कागज़ की काली कँटीली
पगडँडियों पर चलने की व्यथा
क्या कम है
नित नये शब्द घडने की कथा
क्या कम है
खुद को टीस दे कर
दिल सताने की अदा
क्या कम है
मगर ये सज़ा पाना चाहती हूँ
आखिरी पल का
वादा निभाना चाहती हूँ
तुम्हारे अंदाज़ मे
पल पल मर कर
मुस्कराना चाहती हूँ

21 comments:

ओम आर्य said...

दिल सताने की अदा
क्या कम है
मगर ये सज़ा पाना चाहती हूँ
आखिरी पल का
वादा निभाना चाहती हूँ
तुम्हारे अंदाज़ मे
पल पल मर कर
मुस्कराना चाहती हूँ

AAPNE JO BAAT IN PANKTIYON KE MAADHYAM SE KAH DALI HAI..............BAS EK HI BAAT DIL SE NIKAL RAHI HAI KI ........BAS YAHI EK KHWAHISH HONA CHAHIYE EK DIL SE DUSARE DI TAK PAHUCHANE KE LIYE..
JITANI BHI TARIF KARU KAM PADEGI IN PANKTIYON KE LIYE...........

विवेक सिंह said...

बहुत सही भावाभिव्यक्ति !

विवेक सिंह said...

बहुत सही भावाभिव्यक्ति !

Jayant Chaudhary said...

Toooo much... Tooooo good.

Aur koi ahabd hi nahi mile.

ताऊ रामपुरिया said...

बेहतरीन अभिव्यक्ति.

रामराम.

Pt.डी.के.शर्मा"वत्स" said...

आखिरी पल का
वादा निभाना चाहती हूँ
तुम्हारे अंदाज़ मे
पल पल मर कर
मुस्कराना चाहती हूँ

बहुत ही बढिया भाव अभिव्यक्ति.......आभार

AlbelaKhatri.com said...

पल पल मर कर
मुस्कराना चाहती हूँ

kaleja nikaal liya ji aapne toh
waah waah
umda rachna......badhaai !

विनोद कुमार पांडेय said...

बहुत ही सुंदर भाव भरी अभिव्यक्ति ,
दर्शाया है आपने,
बधाई स्वीकारें.

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

कम शब्दों में सुन्दर अभिव्यक्ति।
बधाई।

विवेक said...

सच में...मोहब्बत भी क्या चीज है...मरना भी हो तो उसी के अंदाज में...पल पल...ताकि मरने को भी जिया जा सके...मुस्कुराते हुए...अच्छी लगी कविता.

राज भाटिय़ा said...

जबाब नही , बहुत ही खुब्सुरती से आप ने दिल की बात कह दी..
धन्यवाद

vandana said...

badi hi khoobsoorti se gahri baat kah di.

‘नज़र’ said...

निर्मला जी कैसी हैं? बहुत सुन्दर कविता है!

मुकेश कुमार तिवारी said...

निर्मला जी,

हाल-ए-दिल बयां करने के इस बहाने से
जाने कितने कागजों को रंगा हमने खूं से

बहुत अच्छी रचना।

सादर,

मुकेश कुमार तिवारी

sada said...

आखिरी पल का
वादा निभाना चाहती हूँ
तुम्हारे अंदाज़ मे
पल पल मर कर
मुस्कराना चाहती हूँ !

बहुत ही गहरे भावों के साथ,
सुन्‍दर अभिव्‍यक्ति, आभार ।

दिगम्बर नासवा said...

आखिरी पल का
वादा निभाना चाहती हूँ
तुम्हारे अंदाज़ मे
पल पल मर कर
मुस्कराना चाहती हूँ

गहरी अभिव्यक्ति है इस रचना में...... बड़ा मुश्किल होता है ऐसा करना

शोभना चौरे said...

कागज़ की काली कँटीली
पगडँडियों पर चलने की व्यथा
क्या कम है
vah kya abhivykti.bhut khoob
badhai

"अर्श" said...

bahot hi samvadanshil kavitaa hai dil ko chirati hui dharaatal pe le aati hai ... pataa nahi maun pade shabd ko kaise aap aawaaz deti hai pichhali kavitaa bhi aisi hi thi... dono me gahavaa bhav ka purnata se samaavesh hai...is behad hi bhavuk kavitaa pe kaise badhaayee dun samajh nahi aaraha hai ...


arsh

SWAPN said...

wah nirmala ji, bahut umda rachna,..........khas kar. pal pal markar muskurana chahti hun.

wah. badhai sweekaren.

●๋• सैयद | Syed ●๋• said...

आखिरी पल का
वादा निभाना चाहती हूँ
तुम्हारे अंदाज़ मे
पल पल मर कर
मुस्कराना चाहती हूँ

बेहतरीन !!

Udan Tashtari said...

बहुत उम्दा..बेहतरीन!

पोस्ट ई मेल से प्रप्त करें}

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner